Best Hindi Tutorials

Textual description of firstImageUrl

C in Hindi : Variables & Constants

C variables & constants

  • Introduction to C variables in Hindi
  • Creating C variables in Hindi  
  • Scope of C variables in Hindi  
  • Introduction to C constants in Hindi 

Introduction to C variables 

यदि आप computer की memory में data को store करना चाहते है तो इसके लिए पहले आपको उस memory location के लिए नाम देना होता है। Variable memory में किसी location का नाम होता है। 

C-variables-in-Hindi
मान लीजिए ये आपका computer memory space है। आप इसमें कुछ data store करवाना चाहते है। जैसे की किसी व्यक्ति की उम्र आदि। Computer की memory में data store करवाने से पहले आप बताते ही की आप किस तरह का data store करेंगे। ये आप data types के द्वारा define करते है। उसी के according आपको memory में space मिलता है। यानि की यदि आपने int define किया है तो 2 bytes आपको memory में compiler allot करेगा।

इसके साथ ही आपको उस memory location का नाम भी define करना होता है। ताकि आप जब भी चाहे उस memory location में store की गई value को इस नाम के द्वारा access कर सके। इस नाम को ही variable कहते है। Variables की values changeable होती है। आप एक value को हटाकर दूसरी value डाल सकते है। ऐसा आप manually खुद भी कर सकते है या फिर dynamically (program execution के दौरान) भी कर सकते है।           

Creating variables in C

Variables create करने के लिए सबसे पहले आप data type define करते है। इसके बाद आप एक unique name define करते है। इसका structure इस प्रकार होता है। 


dataType variableName;                   // without assigning value 

dataType variableName = value;       // with value assignment 

   
उदाहरण के लिए निचे दिए गए statement को देखिये।


int Age = 25;


इस statement के द्वारा एक integer variable create किया गया है, जिसका नाम Age है। और इस variable को 25 value assign की गई है। आइये अब समझते है की compiler इस statement को किस प्रकार interpret करता है।

जब compiler सबसे पहले int को interpret करता है तो वह computer की memory में से 2 bytes की memory allot करता है। इसके बाद जब compiler Age को interpret करता है तो वह उस 2 bytes की memory को age नाम दे देता है। इसके बाद जब compiler = 25 को interpret करता है तो 25 को इस memory location store कर देता है।

C-variables-in-Hindi


अब जब भी आप इस value को access करना चाहते है Age के द्वारा इसे access कर सकते है।



Scope of variables 

कोई variable program में कँहा तक काम कर सकता है। ये उसका scope होता है। Scope के according variables को 2 categories में divide किया गया है। 

Local variables 

Local variables वो variables होते है जो program के किसी छोटे block में define किये जाते है जैसे की function या control statement blocks या कोई और block ({  }) भी हो सकता है। इस तरह के variables का यूज़ सिर्फ इस block तक ही limited रहता है। जैसे की यदि आपने किसी function में कोई variable create किया है तो आप उस variable को उस function के बाहर access नहीं कर सकते है। उदाहरण के लिए निचे दिए गए उदाहरण को देखिये। 


#include  <stdio.h>

int main()
{
     myFunction()
     int num=6; // local num variable
     printf("%d", num);  // will print 6


 myFunction()
     {
         int num= 5; // local num variable
         printf("%d",num); // will print 5
     }

  

Global variables

Global variables वो variables होते है जिनका scope पुरे program में होता है। इन variables को आप पुरे program में कंही भी access कर सकते है। इसका उदाहरण निचे दिया जा रहा है।    


#include <stdio.h>

int num=5; //Global variable

int main()
{
    myFunction();
    printf("%d",num); // will print 5
    return 0;
}

void myFunction()
{
    printf("%d:,num); //Accessing num & will print 5
}




Constants in C

Constants वो variables होते है जिनकी value change नहीं होती है। जब भी आप कोई constant declare करते है तो program के execution के दौरान उसकी value fixed रहती है। यदि इसकी value change करने की कोशिश की जाती है तो program में error आ जाती है। इन्हें literals भी कहा जाता है।   

Constants को आप 2 तरह से declare कर सकते है। 
  • Using #define 
  • Using Const keyword 

Using #define 

#define एक pre-processor है इसे यूज़ करके आप constant declare कर सकते है। इसका उदाहरण निचे दिया जा रहा है। 


# include <stdio.h>

#define result 10; // a constant defined using #define

int main()
{
    int a=5, b=6;
    
    result = a + b; // WRONG, (ERROR) Value of constant result can not be changed  

    printf("%d", result);
    
    return 0;
}

      

Using const keyword

Const keyword के द्वारा भी आप constants declare कर सकते है। इसका उदाहरण निचे दिया जा रहा है।


#include <stdio.h>

int main()

const int a=5;

int b=6;

a = a+b; // WRONG, (ERROR), A constant value can not be changed

printf("%d",a);

return 0;

}


      DMCA.com Protection Status

4  Replies so far - Add your comment

  1. उत्तर
    1. Jab bhi aap kisi function ka return type VOID define na karke INT define karte h to iska mtlb hota h ki aapka function INT return karega. lekin fir bhi yedi function koi value return nahi karta h to esi situation me aap 0 return karvate h. Kyonki 0 bhi integer hota h or isse output par koi asar bhi nahi padta h. Yedi aap kuch bhi return nahi karvate h to program error show karta h.

      हटाएं
  2. उत्तर
    1. Basically hota kya h ki ek function Input->Process->Output ke model ko follow karta h. Mtlb ye hua ki aap function me input denge or function aapko output dega.

      Udaharan ke liye yedi aap function me 2 number read kar rahe h jo ki integer h to iska mtlb ye hua ki aapke function ka result ya fir output jo hoga vo bhi integer number hoga. Isliye aap function create karte samay return type define karte h.

      Or isi model ki wajah se aap function se ek value return karvate h. kyonki yedi aap koi result ya output nahi dete h to function create karane ka koi sense nahi h.

      yedi me addition ke function 2 or 4 pass karu or vo mujhe add karke kuch bhi return na kare to sochiye kesa hoga?

      or yedi kabhi kisi function me aap kuch return nahi karna chahte h to aap return 0; statement bhi use kar sakte h.

      हटाएं