C++ in Hindi : Variables

C++ Variables

  • Introduction to C++ variables in Hindi
  • Creating C++ variables in Hindi 
  • Initializing C++ variables in Hindi 
  • Displaying C++ variables in Hindi

Introduction to C++ Variables 

किसी भी तरह के data को computer memory में store करने के लिए आप variables का उपयोग करते है। आसान शब्दों में कहें तो variables किसी box की तरह होते है जिसमें आप values को store करते है। Technically variables एक computer memory location होती है जिसे एक नाम दिया जाता है और उस memory location पर values store की जाती है। बाद में इसी नाम को use करते हुए आप store की गयी value पर अलग अलग operations perform करते है।  

Variables की values change की जा सकती है। उदाहरण के लिए यदि आपने किसी variable में 5 store किया है तो आप इसे change करके 10 कर सकते है। ऐसा आप खुद manually भी कर सकते है या फिर किसी operation के द्वारा भी ऐसा किया जा सकता है। 

Creating Variables

C++ में भी C language की तरह ही variables create किये जाते है। Variables create करने का general syntax निचे दिया जा रहा है। 

data_type variable_name;
   
C++ में variables create करने के लिए सबसे पहले आप ये define करते है की आप किस तरह की value उस variable में store करेंगे। ऐसा आप data type define करके करते है। Data type से compiler को पता चलता है की किस तरह की value एक particular variable में store की जायेगी, इस जानकारी के base पर compiler जितनी memory required होती है उतनी इस variable को allot करता है। Data types के बारे में और अधिक आप C++ Data Types की tutorial से पढ़ सकते है।

Data type define करने के बाद variable का एक unique नाम define किया जाता है। आप एक नाम के 2 variables नहीं create कर सकते है। जैसा की आपको पता है की C++ एक case sensitive language है, इसलिए upper case और lower case variables अलग अलग माने जाते है। उदाहरण के लिए age और Age दो different variables माने जायेंगे।

आइये अब C++ में variables create करना एक उदाहरण के माध्यम से समझने का प्रयास करते है।

int age;

ऊपर दिए गए उदाहरण में integer type का variable create किया गया है। इस variable का नाम age है।

Intializing Variables 

Variables में values store करना variable intialization कहलाता है। किसी भी variable में value store करवाने के लिए सबसे पहले आप उस variable का नाम लिखते है, इसके बाद assignment operator लगाकर आप वह value लिखते है जिसे आप इस variable में store करना चाहते है। इसका general syntax निचे दिया जा रहा है। 

variable_name = value;

आइये अब इसे एक उदाहरण से समझने का प्रयास करते है। मान लीजिये आप ऊपर create किये गए variable को value assign करवाना चाहते है तो ऐसा आप इस प्रकार कर सकते है।

age = 29;

 आप चाहे तो variable create करते समय भी value assign कर सकते है। इसका उदाहरण निचे दिया जा रहा है।
   
int age = 29;

यदि आप user से value input करवाना चाहते है तो इसके लिए आप cin input statement का प्रयोग करते है। Input और output statements के बारे में और अधिक आप C++ I/O System की tutorial से पढ़ सकते है। इसका general syntax निचे दिया जा रहा है।

cin>>variable-name;

उदाहरण के लिए आप age variable की value user से input करवाना चाहते है इसके लिए आप इस प्रकार statement लिखेंगे।

cin>>age;

जब ऊपर दिया गया statement execute होगा तो console window खुलेगी जिसमें user अपनी value type कर सकता है। User के enter press करने पर लिखी गयी value variable को assign हो जाएगी।

Displaying Variables

किसी भी variable की value console screen पर display करने के लिए आप cout statement का प्रयोग करते है। इसका general syntax निचे दिया जा रहा है।
     
cout<<variable-name;

उदाहरण के लिए यदि आप age variable की value print करना चाहते है तो ऐसा आप इस प्रकार कर सकते है।

cout<<age;


Scope of Variables

C++ में variables उनके scope के अनुसार 2 प्रकार के होते है ।
  1. Global Variables
  2. Local Variables

Global Variables

जो variables पुरे program में कँही भी access/use किये जा सकते है वे global variables कहलाते है। ऐसे variables को program की शुरुआत में ही define किया जाता है। इसका उदाहरण निचे दिया जा रहा है।  

#include <iostream>
using namespace std;

int num=25;

void display()
{
     cout<<"Number is : "<<num;
}

int main()
{
     display();
     return 0;
}
 
ऊपर दिया गया program निचे दिया गया output generate करता है।

Number is : 25 


Local Variables

Local variables ऐसे variables होते है जो किसी block में create किये जाते है, जैसे की कोई function या control statement block आदि। ऐसे variables सिर्फ उस block में ही access/use किये जा सकते है जिनमें इन्हें define किया जाता है। इसका उदाहरण निचे दिया जा रहा है।

#include <iostream>
using namespace std;

int myFunction()
{
     int num=10;
     cout<<num;
}

int main()
{
    cout<<"Hello!";
    cout<<num;
    return 0;
}

ऊपर दिए गए उदाहरण में myFunction() function में create किये गए variable को main() function में access किया जा रहा है। ऐसा करने पर error generate होगी क्योंकि num एक local variable और उसे myFunction() में ही use किया जा सकता है। ये program निचे दिया गया output generate करता है।

error : num was not declared in this scope 

      DMCA.com Protection Status

 Leave a comment