CCNA in Hindi : HDLC

High Level Data Link Control (HDLC) Protocol

  • Introduction to HDLC protocol in Hindi 
  • Features of HDLC protocol in Hindi
  • HDLC protocol frames types in Hindi
  • HDLC operational modes in Hindi

Introduction to High Level Data Link Control (HDLC) Protocol 

HDLC एक point to point data link layer protocol है। HDLC protocol को ISO (International Standards Organization) द्वारा point to point data links पर use करने के लिए बनाया गया है। HDLC full duplex communication को support करता है।

HDLC information को एक data frame में डालता है जो devices को data flow control और error corrections की capabilities provide करता है। HDLC को IBM द्वारा बनाये गए Synchronous Data Link Control (SDLC) protocol के आधार पर बनाया गया है।

HDLC Cisco routers द्वारा synchronous serial links पर use किये जाने वाला default proprietary encapsulation है। इसका मतलब ये हुआ की ये किसी दूसरे vendor के router पर implemented HDLC से interact नहीं करेगा। हर vendor का different proprietary HDLC version होता है। हर vendor का अलग HDLC version होने का कारण ये है की हर vendor अलग तरीके से HDLC protocol को network layer protocols में encapsulate करता है। हर vendor की proprietary header HDLC encapsulation के data field में होती है।

किसी भी Cisco device पर आपको HDLC configure करने की आवश्यकता नहीं होती है। जैसा की मैने आपको बताया Cisco devices पर ये default encapsulation है। इसे देखने के लिए आप किसी भी interface को show interface command से देख सकते है। इस command के result में यदि आप देखेंगे तो आपको encapsulation HDLC show होगा।


Features of High Level Data Link Control (HDLC) Protocol

  • HDLC protocol full duplex communication को support करता है। ये आपको एक साथ information receive और send करने की capabilities provide करता है। 
  • HDLC एक bit oriented protocol है। Byte oriented protocols जैसे की TCP और IP में किसी भी control information को encode करने के लिए bytes use की जाती है। HDLC byte values को recognize नहीं करता है। इसमें किसी control information को encode करने के लिए single bits use की जाती है। 
  • HDLC protocol आपको flow control की capabilities provide करता है। इस protocol के द्वारा आप receiver की क्षमता के अनुसार window की size adjust कर सकते है। 
  • HDLC protocol frames को send और receive करने के लिए physical layer clocking और shynchronization use करता है। 

HDLC Frame Types

HDLC protocol 3 प्रकार के frames send और receive करता है। इनके बारे में निचे detail से दिया जा रहा है। 

Information Frames (i-frames)

Information frames को i-frames भी कहा जाता है। ये frames user का data और उस data के बारे में control information carry करते है। Information frames में user का data information field में carry किया जाता है। 

Supervisory Frames (s-frames)

Supervisory frames को संक्षेप में s-frames भी कहा जाता है। ये frames control information और error controls carry करते है। इन frames में information field नहीं होता है। 

Unnumbered Frames (u-frames)

Unnumbered frames को u-frames भी कहा जाता है। ये frames system management के लिए reserved रहते है। इनके द्वारा carry की गयी information routers के बीच link को manage करने के लिए use की जाती है। दो devices के बीच में session management और control information को exchange करने के लिए u frames को use किया जाता है। 

HDLC Stations 

Data link control के लिए HDLC 3 प्रकार के stations specify करता है। इनके बारे में निचे detail से दिया जा रहा है।

Primary Station 

Primary station data link पर एक controlling station होता है। Data link पर सभी दूसरे secondary stations को control करना primary station की responsibility होती है। ये station data flow को organize करने और error recovery के लिए भी responsible होता है। एक primary station command frames send करता है। 

Secondary Station

यदि किसी network में HDLC को data link protocol के रूप में use किया गया है और उस data link पर primary station है तो उस link पर एक और एक से अधिक secondary stations भी जरूर होंगे। एक secondary station primary station के control में रहता है। Secondary stations में link को control करने की कोई functionality नहीं होती है। इन्हें primary station की request पर activate किया जाता है। Secondary stations केवल primary stations को ही respond करते है। एक secondary station response frame send करता है।  

Combined Station 

एक combined station primary station और secondary station का combination होता है। एक data link पर combined stations बिना किसी primary server की permission से एक दूसरे को command और responses send और receive कर सकते है। एक combined station खुद को स्वयं ही control करता है। 

HDLC Configuration Types

तीन प्रकार के stations के लिए HDLC आपको तीन प्रकार का configuration provide करता है। Configuration types के बारे में निचे detail से दिया जा रहा है।

Unbalanced Configuration 

HDLC unbalanced configuration में एक primary station होता है और बाकी secondary stations होते है। इसे unbalanced configuration इसलिए कहा जाता है क्योंकि एक station बाकी सभी दूसरे stations को control करता है। 

Balanced Configuration 

एक HDLC link में balanced configuration दो और अधिक combined stations के द्वारा establish होता है। सभी combined stations की link को maintain करने की बराबर जिम्मेदारी होती है। 

Symmetrical Configuration 

ये configuration आजकल use नहीं किया जाता है। इस तरह के configuration में दो point to point unbalanced stations होते है। हर station का primary और secondary status होता है। 

HDLC Operational Modes 

HDLC आपको operation के 3 modes provide करता है जिनके बारे में निचे दिया जा रहा है। 

Normal Response Mode (NRM)

इस तरह के operational mode में primary station secondary station को transfer शुरू करता है। Secondary station primary station के command पर केवल response transmit कर सकता है। ये किसी frame के acknowledgment की तरह work करता है, लेकिन ये response acknowledgment से कई अधिक information carry करता है। Response frames एक से अधिक भी हो सकते है। आखिर response frame भेजने के बाद secondary station primary station के command frame का wait करता है। 

Asynchronous Response Mode (ARM)

इस तरह के operational mode में primary station secondary station को transfer शुरू नहीं करता है। साथ ही secondary station को भी किसी भी प्रकार का frame भेजने के लिए primary station से command की आवश्यकता नहीं होती है। Secondary station द्वारा भेजे जाने वाले frames में station के status से सम्बंधित data भी हो सकता है और control information भी हो सकती है। इस तरह के operational mode से primary station पर कम load पड़ता है क्योंकि primary station को permission frames send करने की आवश्यकता नहीं होती है। 

Asynchronous Balanced Mode (ABM)

ये operational mode combined stations use करता है। किसी भी station को frames send करने के लिए किसी भी station से permission लेने की आवश्यकता नहीं होती है। 

HDLC Non-Operational Modes

HDLC में तीन non operational modes भी होते है। इनके बारे में निचे दिया जा रहा है। 
  1. Normal Disconnected Mode (NDM)
  2. Asynchronous Disconnected Mode (ADM) 
  3. Initialization Mode (IM) 

      DMCA.com Protection Status

 Leave a comment