Loading...

Linux in Hindi – Networking Commands Part 2

अभी तक आपने linux में networking से संबधित ip, ping और netstat जैसी commands के बारे में Linux networking commands part 1 में जाना है। बाकी की networking commands के बारे में इसे tutorial में बताया जा रहा है।

SS

यह command पहले बताई गयी netstat command को replace करती है। यदि information की बात की जाय तो यह command netstat command से अधिक information show करती है।

ss 

TCP, UDP और दूसरे advanced socket के बारे में जानकारी यह command provide करती है जो की netstat command द्वारा नहीं provide की जाती है।

linux-ss-command

Speed में भी यह command netstat से अधिक fast है। इसका कारण यह है की यह command सारी information kernel से प्राप्त करती है।

इस command द्वारा आप एक साथ TCP, UDP और Unix के listening और connected ports को display करना चाहते है तो इसके लिए क्रमशः -t, -u और -x commands use करते है और इनके बाद a postfix करते है।

ss -ta    // TCP 
ss -ua   // UDP  
ss -xa   // Unix 
linux-ss-command-ta-option
linux-ss-command-ua-option
linux-ss-command-xa-option

यदि आप सिर्फ listening ports देखना चाहते है तो इसके लिए इन commands से पूर्व l prefix करते है।

ss -lt
ss -lu
ss -lx
linux-ss-command-lt-option
linux-ss-command-lu-option
linux-ss-command-lx-option

dig

Linux dig command domain names से सम्बंधित information display करती है। इस command का पूरा नाम Domain Information Groper है। यदि आपको लगता है की किसी domain के साथ कोई problem है तो इसके लिए आप linux dig command द्वारा उसे troubleshoot कर सकते है।

dig domain-name
linux-dig-command

इस command के बाद आप domain का नाम लिखते है। जो domain name आप देते है यह command उससे सम्बंधित records आपको display करने का प्रयास करती है।

nslookup

यह command भी dig command की तरह domain की information provide करती है। लेकिन इस command द्वारा बहुत ही brief information provide की जाती है।

nslookup domain-name
linux-nslookup-command

यह command name, server और address जैसी information provide करती है।

route

Linux route command आपको IP routing table को show और edit करने की ability provide करती है। Routing table router द्वारा manage की जाती है जो packets को forward करने का कार्य करता है।

route 

एक routing table different connected networks की list होती है। इसमें उन networks का current status होता है। Router द्वारा यह information packets को best path से forward करने के लिए use की जाती है।

linux-route-command

कई बार इस command के output को समझने में परेशानी हो सकती है। इसलिए आपको -n option provide किया गया है। इस information से सारी information numerical form में show होती है।

route -n 
linux-route-command-n-option

इस command के द्वारा default gateway भी set किया जा सकता है।

route add default gw ip-address

आखिर में वह ip address लिखा जाता है जिसे आप default gateway बनाना चाहते है।

router की cache table display करने के लिए आप इस command के साथ -Cn option use करते है।

route -Cn
linux-route-command-Cn-option

host

Linux की यह command address to name और name to address mapping करती है। जब आप इस command के साथ कोई ip address input देते है तो उस address से संबधित domain name display की जाती है।

host <ip-address>

इसी प्रकार जब आप इस command के साथ कोई domain name input देते है तो उस name का ip address display किया जाता है।

host <domain-name>
linux-host-command

इस command के साथ -t option के प्रयोग से आप किसी DNS resource जैसे की CNAME, SRV आदि के records प्राप्त कर सकते है।

host -t DNS-resource-name
linux-host-command-t-option

arp

यह linux networking command Address Resolution Protocol (ARP) table को view और edit करने की ability provide करती है।

Edit से यँहा पर तात्पर्य है की आप नए records arp table में इस command द्वारा add कर सकते है।

arp 
linux-arp-command

iwconfig

Linux iwconfig command wireless interface को configure करने के लिए प्रयोग की जाती है। इस command के द्वारा wifi details display और set कर सकते है।

iwconfig
linux-iwconfig-command

hostname

Linux में hostname एक बहुत ही महत्वपूर्ण networking command है। इस command के द्वारा आप अपने system का hostname देख और set कर सकते है।

यह hostname एक network में आपके system को represent करता है और दूसरे आपके system या आपको पहचान पाते है और connect कर पाते है।

hostname 
linux-hostname-command

अपने system का hostname देखने के लिए आप simply hostname command execute करते है। लेकिन यदि आप hostname set करना चाहते है या edit करना चाहते है तो इसके लिए आप hostname से पूर्व sudo prefix करते है और hostname के बाद में वह name देते है जो आप set करना चाहते है।

sudo hostname <name-here>

curl & wget

यदि आप command line interface द्वारा internet से कोई file download करने का option ढूंढ रहे है तो इसके लिए linux में curl और wget दो commands available है।

इन commands के साथ आप वह URL define करते है जँहा से आप file download करना चाहते है। Curl command -o option के साथ प्रयोग की जाती है।

curl -o file-url

Linux wget command के साथ आपको कोई option define करने की आवश्यकता नहीं है। इस command के बाद directly file का url define करते है।

wget file-url
linux-wget-command

mtr

Linux में mtr networking command ping और traceroute command का typical combination होती है। यह command सभी hops का ping time और उनसे सम्बंधित errors को display करती है।

mtr destination
linux-mtr-command

whois

Linux whois command आपको किसी website से सम्बंधित कई प्रकार की informations show कर सकती है। जैसे website registration time और date और इसके अलावा website के owner की information भी यह command display कर सकती है।

यह command केवल उन्हीं website के लिए कार्य करेगी जिनकी information public है। यदि किसी website की information hidden तो वह इस command द्वारा नहीं show की जा सकती है।

whois website-name 
linux-whois-command

ifplugstatus

यह command बताती है की network interface कोई cable plugged है या नहीं।

ifplugstatus
linux-ifplugstatus-command