Linux in Hindi – Networking Commands

  • Introduction to linux networking commands in Hindi
  • All linux networking commands in Hindi

Introduction to Linux Networking Commands

आज के युग में एक computer अनुपयोगी है यदि वह दूसरे computers और devices से communication ना कर सके। Communication के माध्यम से computers में information share करते है जो अलग अलग संदर्भों में महत्वपूर्ण होती है।

दो computers या दो devices के बीच communication networking के माध्यम से perform होता है। कोई भी दो devices communication करने के लिए कुछ standards और protocols को follow करते है।

ये standards और protocols लगभग सभी operating systems द्वारा supported होते है। Linux भी users को networking capabilities provide करता है।

All Linux Networking Commands

Linux में network settings को configure और troubleshoot करने के लिए कई commands भी provide की गयी है जो networking establish और troubleshoot करने के लिए specifically बनायीं गयी है।

एक linux administrator या सामान्य user के रूप में भी आपका इन commands के बारे में जानना बेहद उपयोगी होता है।

ifconfig

Interface configure करने के लिए provide की गयी यह command बहुत ही उपयोगी है। इस command द्वारा एक interface को enable या disable किया जा सकता है, उस पर ip configure किया जा सकता है।

इस command के द्वारा ip address, mac address और loopback address जैसी informations देखी जा सकती है।

इस command द्वारा किसी specific interface की जानकारी प्राप्त करने के लिए आप command के बाद उस interface का नाम लिखते है।

ifconfig <interface-name>

किसी interface को ip address assign करने के लिए ip address के साथ netmask भी define किया जाता है।

ifconfig <interface> <ip-address> <netmask> 

किसी interface को enable करने के लिए ifup command use की जाती है।

ifup <interface-name>

किसी interface को disable करने के लिए ifdown command use की जाती है।

ifdown <interface-name>

Maximum Transmission Unit (MTU) size set करने के लिए interface का नाम mtu define किया जाता है।

ifconfig <interface> mtu <size>

ip

Linux ifconfig command का नया version कही जाने वाली यह command ifconfig command की तरह ही ip address आदि informations देती है।

ip addr 
or 
ip a

इसको दो प्रकार से execute किया जा सकता है। एक तो आप पूरा ip addr लिख सकते है। यदि आप पूरा नहीं लिखना चाहते है तो आप सिर्फ ip a भी लिख सकते है।

किसी specific interface के बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए आप इस command के बाद show और फिर interface का नाम लिखते है।

ip a show <interface>

traceroute

किसी destination तक जाने समन्धित सभी informations जैसे की hops की सँख्या, packets आदि प्रदान करने वाली यह command मुख्यतः troubleshooting के लिए use की जाती है।

इस command के बाद आप destination का नाम लिखते है। यह कोई ip address या domain name हो सकता है।

traceroute <destination>

यह एक utility होती है। यदि यह आपके system पर install नहीं है तो एक simple command द्वारा आप इसे install कर सकते है।

sudo apt-get install inetutils-traceroute

tracepath

Linux traceroute command की तरह ही कार्य करने वाली इस command के लिए administrator privileges की आवश्यकता नहीं है। Ubuntu distribution में यह command by default install होती है। जबकि यदि आप traceroute को उपयोग करना चाहते है तो पहले आपको use install करना होगा।

tracepath <destination>

यह command किसी destination path के सभी hops की जानकारी प्रदान करती है।

ping

यह command किन्ही दो nodes के बीच connectivity को check करने के लिए उपयोग की जाती है। आप यह check कर सकते है की कोई server आपके system से reachable है या नहीं।

Basically इस command द्वारा destination तक कुछ commands send की जाती है यदि destination उनका reply send करता है तो connectivity confirm हो जाती है।

ping <destination>

इस command में destination के रूप में आप कोई domain name या ip address दे सकते है। यह command connectivity check करने के लिए तब तक packets send करती है जब तक की user स्वयं इसे रोक नहीं देता है। इसे रोकने के लिए ctrl+c का प्रयोग किया जाता है।

यदि आप कुछ ही packet request send करना चाहते है तो इसके लिए आप -c option द्वारा उतनी requests की सँख्या बता सकते है। जैसे आप 5 define करते है तो connectivity check करने के लिए सिर्फ 5 ping requests भेजी जायेगी।

Netstat

यह command network statistics show करने के लिए use की जाती है। यह command network सम्बंधित विभिन्न information जैसे interfaces, sockets, routing tables और connections display करती है।

netstat 

इस command के साथ -p option का प्रयोग करके आप उन सब programs की जानकारी प्राप्त कर सकते है जो open socket का उपयोग कर रहे है। Programs को उनकी id के साथ display किया जाता है।

netstat -p

यदि आप सभी ports की detailed information चाहते है तो इसके लिए आप इस command के साथ -s option use कर सकते है।

netstat -s

सिर्फ routing table की information को display करने के लिए -r option का प्रयोग किया जा सकता है।

netstat -r 

Linux Networking Commands in Hindi – Part 2