PHP in Hindi : Server Variables

  • Introduction to PHP server variables in Hindi
  • List of PHP server variables in Hindi
  • Example of PHP server variables in Hindi

Introduction to PHP Server Variables

कई बार आपको server या work environment सम्बन्धी जानकारी देखने या प्रयोग करने की आवश्यकता होती है। इसके लिए PHP आपको server variables provide करती है।

PHP में $_SERVER एक array है जो headers, paths और script locations जैसी information को store करता है। इस array के अंदर entries आपके (programmer) के द्वारा नहीं बल्कि server द्वारा create की जाती है।

जब भी आप कोई PHP script execute करते है तो $_SERVER array की indexes को server की information से load कर दिया जाता है।

$_SERVER array की हर index server के बारे में unique information represent करती है। हर index को unique नाम के द्वारा represent किया गया है जिससे आप आसानी से information प्राप्त कर सकते है।

उदाहरण के लिए यदि आप server का नाम जानना या display कराना चाहते है तो निचे दिए जा रहे तरीके से उसे access कर सकते है।

echo $_SERVER[‘SERVER_NAME’];

ऊपर दिए गए statement में SERVER_NAME $_SERVER array की वह index है जो server के नाम को store करती है।

$_SERVER array से आप किसी भी प्रकार की जानकारी index द्वारा ही प्राप्त करते है। इसलिए $_SERVER array की हर index एक server variable कहलाती है।

Server variables super global होते है। इन्हे access करने के लिए आपको global keyword की आवश्यकता नहीं होती है। इन्हें आप अपनी script में कँही भी use कर सकते है।

PHP 5.4.0 से पूर्व $HTTP_SERVER_VARS array द्वारा भी same ही information represent की जाती थी।  इनमें फर्क सिर्फ इतना था की $HTTP_SERVER_VARS array के variables global नहीं थे।

Global नहीं होने के कारण $HTTP_SERVER_VARS के variables का use limited था। यही reason रहा की PHP 5.4.0 से $HTTP_SERVER_VARS को remove कर दिया गया।

एक बात आपको हमेशा ध्यान रखनी चाहिए की यदि आप PHP command line interpreter का उपयोग कर रहे है तो $_SERVER array के बहुत कम indexes (variables) द्वारा information represent की जायेगी।

List of PHP Server Variables

PHP में available सभी server variables के बारे में निचे बताया जा रहा है।

  • PHP_SELF – यह variable currently execute हो रही script का file name store करता है। 
  • argv – यह एक array है जो उन arguments को store करता है जो script को pass किये गए है। 
  • argc – यह array किसी list को कितने command line parameters pass किये गए है उनको store करता है। 
  • GATEWAY_INTERFACE – यह variable server द्वारा use किये जाने वाले CGI specification के revision को store करता है। 
  • SERVER_ADDR – यह variable server का current IP address store करता है। 
  • SERVER_NAME – यह variable server का नाम store करता है। 
  • SERVER_SOFTWARE – यह variable server identification string को store करता है जो requests को respond करते समय header में दी जाती है। 
  • SERVER_PROTOCOL – यह variable use script के लिए use होने वाले protocol को नाम और version number store करता है।  
  • REQUEST_METHOD – यह variable वह method store करता है जो page को access करने के लिए use किया गया है। 
  • REQUEST_TIME – यह variable उस time को store करता है जब request start हुई थी। 
  • REQUEST_TIME_FLOAT – यह variable भी request start time को store करता है लेकिन इसमें time microsecond precision को store किया जाता है। 
  • QUERY_STRING – यह variable उस query string को store करता है जिसके द्वारा page access किया गया था। 
  • DOCUMENT_ROOT – यह variable उस root directory का नाम store करता है जिसके under current script execute हो रही है। 
  • HTTP_ACCEPT – यह variable accept parameter के content को store करता है। 
  • HTTP_ACCEPT_CHARSET – यह variable accept charset के content को store करता है। 
  • HTTP_ACCEPT_ENCODING – इस variable में accept encoding का content होता है। 
  • HTTP_ACCEPT_LANGUAGE – इस variable में accept language का content होता है। 
  • HTTP_CONNECTION – इस variable में connection parameter का content store किया जाता है। 
  • HTTP_HOST – इस variable में host parameter का content होता है। 
  • HTTP_REFERER – इस variable में उस page का address store किया जाता है जिसके द्वारा current page user को refer किया गया था। 
  • HTTP_USER_AGENT – इस variable में HTTP header के user agent field का data store किया जाता है। 
  • HTTPS – यदि request के लिए HTTPS protocol का प्रयोग होता है तो इस variable को एक positive value द्वारा set किया जाता है। 
  • REMOTE_ADDR – यह variable वह IP address store करता है जिससे user current page को देख रहा है।
  • REMOTE_HOST – यह variable वह host name store करता है जिस के द्वारा user current page को देख रहा है। 
  • REMOTE_PORT – यह variable वह port number store करता है जिसके द्वारा user की machine server से communicate करती है। 
  • REMOTE_USER – यह variable authenticated user का नाम store करता है। 
  • REDIRECT_REMOTE_USER – यह variable authenticated user का नाम store करता है यदि वह user internally redirected होता है। 
  • SCRIPT_FILENAME – यह variable currently execute होने वाली script का absolute path store करता है। 
  • SERVER_ADMIN – यह variable SERVER_ADMIN directive को दी गयी value को store करता है जो की server configuration file में store की जाती है।  
  • SERVER_PORT – यह variable वह server port number store करता है जो server machine द्वारा communication के लिए use किया जा रहा है। 
  • SERVER_SIGNATURE – यह variable एक string करता है जो server का version और virtual host का नाम बताती है। 
  • PATH_TRANSLATED – यह variable file system के आधार पर current script का path store करता है। 
  • SCRIPT_NAME – यह variable current script का path store करता है। 
  • REQUEST_URI – यह variable page को access करने के लिए use किये गए URI को store करता है। 
  • PHP_AUTH_DIGEST – Digest HTTP authentication के दौरान इस variable को Authorization string assign की जाती है। 
  • PHP_AUTH_USER – HTTP authentication के दौरान इस variable को user द्वारा provide किये गए user name से set किया जाता है। 
  • PHP_AUTH_PW – HTTP authentication के दौरान इस variable को user द्वारा provide किये गए password से set किया जायेगा। 
  • AUTH_TYPE – HTTP authentication के दौरान इस variable को authentication type से set किया जाता है। 
  • PATH_INFO – यह variable path name, variable name और query string को store करता है। 
  • ORIG_PATH_INFO – PHP द्वारा process किये जाने से पूर्व के PATH_INFO के original name को यह variable store करता है। 

Example of PHP Server Variables

PHP server variables के उपयोग को निचे उदाहरण द्वारा समझाया जा रहा है।

<?php

// Printing server information
echo $_SERVER[‘SERVER_NAME’];
echo $_SERVER[‘SCRIPT_NAME’];
echo $_SERVER[‘PHP_SELF’];

?>

ऊपर दिया गया उदाहरण निचे दिया गया output generate करता है।

PHP in Hindi : strval()

PHP strval() Function

  • Introduction to php strval() function in Hindi
  • Syntax of php strval() function in Hindi
  • Example of php strval() function in Hindi

Introduction to PHP strval() Function

PHP strings के लिए बहुत ही अच्छा support provide करती है। PHP 50 से भी अधिक ऐसे functions provide करती है जो सिर्फ strings के साथ ही कार्य करते है। Strings के लिए यह support PHP का एक feature भी है।

PHP में available functions द्वारा आप कई तरह से strings को format कर सकते है। जैसे की strings में कुछ words या digits search करना, strings को lower या upper case में convert करना और कई strings को एक साथ जोड़ना आदि।

ये functions सिर्फ string values के साथ ही कार्य करते है। किसी scalar type जैसे की int, double आदि के साथ इन functions को प्रयोग नहीं किया जा सकता है।

लेकिन कई बार आपको इन types की values को string में convert करने की आवश्यकता होती है। क्योंकि जिस प्रकार से strings को format किया जा सकता है वैसे इन दूसरे types को नहीं format किया जा सकता है।

इन types को strings में convert करने के लिए PHP आपको strval() function provide करती है। यह function किसी variable की value को string में convert करता है। दूसरे types को strings में convert करके आप उन पर भी strings की तरह ही operations perform कर सकते है।

PHP का यह function सिर्फ scalar types (string, integer और double आदि) के variables को ही string में convert करता है। इस function से आप किसी array या object को string में convert नहीं कर सकते है।

लेकिन यदि किसी object (class) में __toString() method को implement किया गया है तो उस object को strval() function से string में convert किया जा सकता है।

जब आप किसी ऐसे object जो __toString() method को implement नहीं करता है या array को string में convert करने का प्रयास करते है तो PHP error generate करती है।

जब आप किसी array को इस function द्वारा string में convert करने का प्रयास करते है तो PHP निचे दिया जा रहा error message show करती है।

Array to string conversion

जब आप किसी ऐसे object को इस function द्वारा string में convert करने का प्रयास करते है जो की __toString() method को implement नहीं करता है तो PHP निचे दिया जा रहा error message show करती है।

Object of class <class-name> could not be converted to string

जैसा की आपको पता है यह function string value return करता है। लेकिन इस function द्वारा return की जाने वाली value पर किसी भी प्रकार की formatting नहीं perform की जाती है। यह कार्य आप बाद में दूसरे string functions की सहायता से कर सकते है।

Syntax of PHP strval() Function

PHP strval() function का syntax निचे दिया जा रहा है।

strval($variable-name/object);

ऊपर दिए गए syntax में variable name किसी भी scalar type के variable का नाम हो सकता है और object name किसी भी ऐसी class का हो सकता है जो __toString() method को implement करती है।

Example of PHP strval() Function

PHP में strval() function के उपयोग को निचे उदाहरण द्वारा समझाया जा रहा है। 
<?php

$var = 3243456123;

// Converting integers to string
$result = strval($var);

if (strlen($result) == 10)
{
echo “Mobile number is valid…”;
}
else
{
echo “Not a valid mobile number…”;
}

?>

ऊपर दिया गया उदाहरण निचे दिया गया output generate करता है।

Mobile number is valid…

PHP String Casting

PHP में string casting के द्वारा भी आप किसी scalar type के variable को string में convert कर सकते है। String casting basically type casting ही है। लेकिन क्योंकि string में convert किया जाता है इसलिए यँहा पर इसे string casting कहा गया है। 
String casting का syntax निचे दिया जा रहा है। 
(string) variable-name; 

किसी scalar variable को string में cast करने के लिए आप उस variable से पहले brackets में string define करते है। किसी भी प्रकार की type casting में जिस भी type में आप किसी variable को cast करना चाहते है उसे brackets में लिखते है।

PHP में casting द्वारा किसी variable को string में convert करना निचे उदाहरण द्वारा समझाया जा रहा है।

<?php

$var = 4422;

// Casting integer to string
$result = (string) $var;
echo substr($result,2);

?>

ऊपर दिया गया उदाहरण निचे दिया गया output generate करता है।

22

PHP in Hindi : Constants

PHP Constants

  • Introduction to PHP constants in Hindi
  • Syntax of PHP constants in Hindi
  • Example of PHP constants in Hindi

Introduction to PHP Constants

PHP में variables के अलावा आप constants में भी data store कर सकते है। Constants variables की तरह ही होते है लेकिन इनकी value को change नहीं किया जा सकता है।
कई बार आपको ऐसे data को store करने की आवश्यकता होती है जिसे change नहीं किया जा सके। उदाहरण के लिए आप geometric operations perform कर रहे है जिनमें PI की value की आवश्यकता है। PI की value हमेशा 3.14 ही रहती है।

यदि आप variable के द्वारा PI की value store करते है तो यह संभव है की बाद में गलती से आपके द्वारा या किसी operation से इसकी value change हो जाये। यदि ऐसा होता है तो सभी operations wrong results produce करेंगे।

इस situation में PI को constant के रूप में define किया जा सकता है। ऐसा करने से program run होने के दौरान किसी भी प्रकार से PI की value change नहीं की जा सकती है।

Syntax of PHP Constants

PHP में constants define करने के लिए define function का प्रयोग किया जाता है। इसका general syntax निचे दिया जा रहा है।

define(“constant-name”,”constant-value”,”case-sensitive”);
Constant define करने के लिए define function में 3 arguments pass किये जाते है।

  • constant-name – यह constant का नाम होता है। यह नाम program में unique होना चाहिए। 
  • constant-value – यह constant की value होती है। 
  • case-sensitive (optional) – यह Boolean (TRUE, FALSE) value होती है। यह एक optional argument है इसके बिना भी constant create किया जा सकता है। यदि आप चाहते है की constant non case sensitive हो तो आप इसकी value true pass करते है नहीं तो इसकी value by default false रहती है। 
Constants को program में use करते समय आपको एक बात हमेशा ध्यान रखनी चाहिए की constants को dollar ($) के साथ define और प्रयोग नहीं  किया जाता है। 

Example of PHP Constants

PHP में constants के उपयोग को निचे उदाहरण द्वारा समझाया जा रहा है।

<html>
<head>
<title>PHP Constant Example</title>
</head>
<body>

<?php

// Defining constant
define(“PI”,3.14);

// Printing constant
echo “Value of PI is : “.PI;

?>

</body>
</html>

  
ऊपर दिया गया उदाहरण निचे दिया गया output generate करता है।

PHP-Constant-in-Hindi

PHP Magic Constants

PHP आपको बहुत सारे predefined constants provide करती है। इन constants को आप किसी भी script में use कर सकते है।

इसके अलावा PHP आपको magic constants भी provide करती है। इन magic constants की value इनकी location के आधार पर change होती है। इनके बारे में निचे बताया जा रहा है।

  • __LINE__ – यह constant file में current line number को बताता है। 
  • __FILE__ – यह constant current file का पूरा path और पूरा नाम बताता है। 
  • __DIR__ – यह constant current file की directory बताता है। 
  • __FUNCTION__ – यह constant current function का नाम बताता है। 
  • __CLASS__ – यह constant current class का नाम बताता है। 
  • __TRAIT__ – यह constant trait का नाम बताता है। 
  • __METHOD__ – यह constant class के method का नाम बताता है। 
  • __NAMESPACE__ – यह constant current namespace का नाम बताता है। 

PHP magic constant का प्रयोग निचे उदाहरण द्वारा समझाया जा रहा है।

<html>
<head>
<title>PHP Magic Constant Example</title>
</head>
<body>

<?php

// Printing current file path using PHP magic constant.
echo __FILE__;

?>

</body>
</html>

ऊपर दिया गया उदाहरण निचे दिया गया output generate करता है।

PHP-Magic-Constant-in-Hindi
Previous: PHP Variables
Next: PHP Echo

PHP in Hindi : Command-Line Interpreter

PHP Command-Line Interpreter

  • Introduction to PHP command line interpreter in Hindi
  • Working with PHP command line interpreter in Hindi

Introduction to PHP Command-Line Interpreter

अभी तक आप PHP code को web browser और server के साथ execute करना सिख चुके है। इस प्रकार के execution में पहले PHP code server पर execute होता है और उसके बाद output browser में show किया जाता है।

लेकिन PHP code को execute करने का सिर्फ यही एकमात्र तरीका नहीं है। PHP code को command-line interpreter (CLI) द्वारा भी execute किया जा सकता है।

Command-line interpreter एक software program है जिसे command prompt window में commands द्वारा चलाया जाता है। हालाँकि PHP command-line interpreter का प्रयोग desktop applications create करने के लिए किया जाता है। लेकिन इसके प्रयोग से web development भी बहुत ही आसानी से किया जा सकता है।

Command line interpreter के माध्यम से errors को बड़ी आसानी से identify और correct किया जा सकता है। साथ ही इसके प्रयोग से आपका समय भी बचता है क्योंकि code को server पर upload करने की आवश्यकता नहीं होती है।

PHP के command line version को CLI (Command Line Interpreter) कहा जाता है और PHP के server version को CGI (Common Gateway Interface) कहा जाता है।

जैसा की आपको पता है PHP द्वारा कई प्रकार की applications (desktop, shell आदि) create की जाती है। यह आवश्यक नहीं है की सभी applications को एक ही प्रकार से execute किया जाए। आप अपनी आवश्यकता के अनुसार किसी भी तरह से PHP code को execute कर सकते है।

Working with Command-Line Interpreter

जैसा की मैने पहले बताया command-line interpreter के साथ commands द्वारा work किया जाता है। कोई भी command execute करने से पहले आपको यह check कर लेना चाहिए की PHP command-line interpreter आपके system में installed है या नहीं। 
यह check करने के लिए आप command line window में php -v command execute करते है। यदि command-line interpreter आपके system में installed होता है तो इस command को execute किये जाने पर उसकी details show होती है। 
Command-line interpreter का version, copyrights जैसी information इस command द्वारा show की जाती है। जैसे की निचे दी जा रही image में show हो रहा है। 
PHP-Command-Line-in-Hindi-1

Command-line interpreter में बहुत सी commands available है जो अलग अलग operations perform करने के लिए प्रयोग की जाती है। यदि आप command-line interpreter द्वारा provide की गयी सभी commands को देखना चाहते है तो इसके लिए आप php -h command execute करते है। 
जब आप इस command को execute करते है तो आपको निचे दी गयी image की तरह command options की list show होती है।

PHP-Command-Line-in-Hindi-2

Command-line interpreter द्वारा php file को execute करना बिलकुल आसान होता है। इसके लिए आप निचे दिए गए syntax को follow कर सकते है।

php file-name.php

जैसा की आप ऊपर दिए गए syntax में देख सकते है, सबसे पहले php command लिखी जाती है। इसके बाद उस file का नाम लिखा जाता है जिसे आप execute करना चाहते है।

जैसे ही आप command को execute करते है PHP file द्वारा produce किया गया output आपको command window में show हो जाता है। यदि आपकी file PHP के अलावा कोई दूसरा code है तो इसे HTML के रूप में execute किया जाता है।

Previous: PHP & HTML
Next: PHP Data Types

PHP in Hindi : Here Documents (Heredoc)

PHP Here Documents (Heredoc)

  • Introduction to PHP here documents in Hindi
  • Syntax of PHP here documents in Hindi
  • Example of PHP here documents in Hindi

Introduction to PHP Here Documents

PHP में here documents long string (text) को represent करने का एक आसान तरीका है। यह long text कुछ भी सकता है। जैसे की यह एक HTML document का code हो सकता है या फिर एक article हो सकता है जिसे आप PHP के द्वारा display करना चाहते है।

यदि general definition की बात की जाय तो एक here document कुछ text होता है जिसे directly एक PHP page के अंदर insert किया जाता है। Here document हमेशा एक token के दो declarations के बीच define किया जाता है। यह token कोई भी word हो सकता है जैसे की END, GO, FINISH, TEXT, EOT आदि।

Here document define करने के लिए आप अपना मनचाहा token इस्तेमाल कर सकते है। यह आवश्यक नहीं है की आप ऊपर बताये गए tokens ही प्रयोग करें।

Here documents की सबसे प्रमुख advantages यह है की आपको किसी भी प्रकार text लिखने के लिए escape sequence characters का प्रयोग करने की आवश्यकता नहीं होती है।

उदाहरण के लिए जब आप एक string define करते है तो उसमें special characters जैसे की single quote, double quote, back slash, dollar sign आदि का प्रयोग करने के लिए आपको escape sequence characters को define करने की आवश्यकता होती है।

लेकिन here document में यदि आप text के अंदर special characters का प्रयोग कर रहे है तो इनको लिखने के लिए आपको escape sequence characters लिखने की आवश्यकता नहीं होगी। आप इन्हें directly text में लिख सकते है। ऐसा करने से किसी प्रकार की error generate नहीं होगी।

इसके अलावा here documents के माध्यम से आप एक long string किसी variable को भी assign कर सकते है। साथ ही आप here documents के अंदर PHP variables को भी include कर सकते है।

आइये अब here documents के syntax के बारे में जानने का प्रयास करते है।

Syntax of PHP Here Documents 

PHP में here documents define करने का general syntax निचे दिया जा रहा है। 
variable = <<<TOKEN
all your long text here…
TOKEN;

जैसा की आप ऊपर दिए गए syntax में देख सकते है here documents को किसी variable को assign किया जाता है। लेकिन आप चाहे तो इसे print या echo language constructs के साथ directly भी use कर सकते है। इसका syntax निचे दिया जा रहा है।

[echo] [print] <<<TOKEN
all your long text here…
TOKEN;

Here document को define करने के लिए सबसे पहले <<< operator define किया जाता है इसके बाद वह token define किया जाता है जिसके बीच text को add किया जाएगा। Token के बाद बिना किसी space के नयी line से text add किया जाता है। Text के बाद वापस token define किया जाता है। Ending token के बाद semicolon से statement को terminate किया जाता है।

Here document के opening token के बाद और closing token से पहले उस line में किसी प्रकार space या कोई दूसरा text नहीं होना चाहिए।

Example of PHP Here Documents

PHP here document को निचे उदाहरण द्वारा समझाया जा रहा है। 
<html>
<head>
<title>PHP Here Documents Example</title>
</head>
<body>

<?php

// Defining here document
$var = <<<EOT
This is very long text.
EOT;

// Printing here document
echo $var;

?>

</body>
</html>

ऊपर दिया गया उदाहरण निचे दिया गया output generate करता है।

PHP-Heredoc-Example-in-Hindi

Previous: PHP print_r() Function

PHP in Hindi : PHP & HTML

PHP & HTML

  • Introduction to PHP & HTML in Hindi
  • Defining PHP inside HTML in Hindi
  • Defining HTML inside PHP in Hindi

Introduction to PHP & HTML 

पिछली tutorial में आपने जो PHP page create किया उसमें पूर्णता PHP language का ही प्रयोग किया गया था। जैसा की आपने देखा केवल PHP का ही प्रयोग करके आप interactive web pages create कर सकते है। लेकिन यह आवश्यक नहीं है की आप केवल PHP code द्वारा ही web pages create करें।

PHP की एक विशेषता यह है की इसे HTML के साथ mix करके use किया जा सकता है। PHP के द्वारा आप webpage की designing को उतना control नहीं कर सकते है जितना की HTML और CSS द्वारा किया जा सकता है। इसलिए इसे HTML और CSS के साथ use किया जाता है।

जब PHP और HTML को mix करके एक webpage create किया जाता है तो उसे भी .php extension से save किया जाता है। इसका कारण यह है की HTML simply web browser द्वारा render (display) की जाती है, लेकिन PHP को server पर available PHP engine द्वारा run किया जाता है।

PHP और HTML को एक साथ आप दो प्रकार से use कर सकते है।

  • PHP inside HTML 
  • HTML inside PHP 
PHP और HTML को एक साथ use करने के इन दोनों ही तरीकों के बारे में आगे detail से बताया जा रहा है। 

Defining PHP Inside HTML 

एक HTML document के अंदर आप PHP code कँही भी insert कर सकते है। लेकिन आपको यह बात हमेशा ध्यान रखनी चाहिए की यदि PHP code कोई output display करता है तो वह output webpage में उसी location पर display किया जाएगा जँहा पर आपने PHP code define किया था। 
जब आप HTML document के अंदर PHP code define करें तो यह आवश्यक है की आप उसे PHP tags के अंदर define करें। आइये इसे एक उदाहरण के द्वारा समझने का प्रयास करते है। 
निचे दिए गए code को देखिये। 
<!DOCTYPE html>
<html>
<head>
<title>Using PHP with HTML</title>
</head>
<body>

<i>Printed using HTML inside body Tag</i><br>

<?php
echo “Printed using PHP inside body Tag<br>”;
?>

</body>
</html>

<?php
echo “Printed using PHP outside HTML Tag”;
?>

ऊपर दिए गए code में HTML से एक simple web page create किया गया है। लेकिन इसमें HTML के साथ ही PHP का भी प्रयोग किया गया है। Body tag के अंदर PHP को define किया गया है और एक simple message display किया गया है।

जैसा की मैने पहले बताया HTML document के अंदर PHP code कँही भी define किया जा सकता है बस वह PHP tags के अंदर होना चाहिए। जैसे की ऊपर दिए गए code में closing HTML tag के बाद एक बार और PHP code define किया गया है और एक message print करवाया गया है।

ऊपर दिया गया code execute किये जाने पर निचे दिया गया output generate करता है। जैसा की आप output  webpage में देख सकते है PHP द्वारा display किये गए message उसी location पर show होते है जँहा उन्हें define किया गया था।

Using-PHP-Inside-HTML-in-Hindi

Defining HTML Inside PHP 

PHP code के execute होने के बाद server द्वारा browser को output text भेजा जाता है। यह text browser द्वारा simple text के रूप में नहीं बल्कि HTML के रूप में interpret किया जाता है।

ऐसे में आप PHP द्वारा send किये जा रहे output को HTML code द्वारा format करके show करवा सकते है। ऐसा करके आप PHP द्वारा भेजे जाने वाले output को webpage में अपने अनुसार represent कर सकते है।

इस कार्य के लिए मुख्यतः echo और print language constructs का प्रयोग किया जाता है। इनके बारे में अधिक जानकारी आप इनसे सम्बन्धित tutorials को पढ़ कर प्राप्त कर सकते है।

PHP code के अंदर किस प्रकार HTML का प्रयोग किया जाता है आइये इसे एक उदाहरण से समझने का प्रयास करते है।

निचे दिए गए code को देखिये।

<!DOCTYPE html>
<html>
<head>
<title>Using HTML inside PHP</title>
</head>
<body>

<?php
echo “<h1>This is printed using both HTML and PHP</h1>”;
?>

</body>
</html>

ऊपर दिए गए code में echo language construct द्वारा एक message print करवाया गया है। इस message को HTML heading tag द्वारा format किया गया है। इसी प्रकार आप दूसरे HTML tags भी PHP के अंदर define कर सकते है। ऊपर दिया गया उदाहरण निचे दिया गया output generate करता है।

Using-HTML-Inside-PHP-in-Hindi

PHP in Hindi : print_r() Function

PHP print_r() Function

  • Introduction to PHP print_r function in Hindi 
  • Syntax of PHP print_r function in Hindi 
  • Example of PHP print_r function in Hindi

Introduction to PHP print_r() Function

PHP में print_r() function किसी भी variable के बारे में human readable information प्राप्त करने के लिए use किया जाता है। यह function string, arrays और objects आदि को argument के रूप में लेता है और उनके बारे आसानी से समझने योग्य information provide करता है। 

यह function मुख्यतः debugging के लिए प्रयोग किया जाता है। इसके द्वारा किसी object या array का detailed structure देखा जा सकता है। यह function किसी class की private और protected properties के बारे में भी information provide करता है।

यदि आप print_r() function में string, integer या float variables pass करते है तो उनकी values ही print की जायेगी। यदि आप array pass करते है तो index और उनकी values format करके show की जायेगी। यदि आप कोई object pass करते है तो उसकी information भी array की तरह ही show की जायेगी। 

Syntax of PHP print_r() Function 

PHP print_r() function का general syntax निचे दिया जा रहा है। 
print_r(expression,return:true/false);

जैसा की आप ऊपर दिए गए syntax में देख सकते है PHP print_r() function 2 arguments लेता है। पहला argument वह variable (expression) होता है जिसके बारे आप information प्राप्त करना चाहते है।

दूसरा argument optional होता है। यदि आप इस function के द्वारा return की गयी value को use करना चाहते है तो आपको दूसरा argument use करना चाहिए। यदि दूसरा argument true pass किया जाता है तो print_r() function information को print करने के बजाय return करेगा।

Example of PHP print_r() Function

निचे PHP print_r() function के use को उदाहरण द्वारा समझाया जा रहा है। 
<?php

$arr = array(‘Monday’,’Tuesday’,’Wednesday’,’Thursday’,’Friday’,’Saturday’,’Sunday’);
// Printing array index numbers and values using print_r() function
print_r($arr);

?>

ऊपर दिया गया उदाहरण निचे दिया गया output generate करता है।

PHP-print_r-function-example-in-Hindi

PHP in Hindi : print

PHP print 

  • Introduction to PHP print in Hindi
  • Syntax of PHP print in Hindi 
  • Example of PHP print in Hindi

Introduction to PHP print 

PHP में output display करने के लिए echo और print को use किया जाता है। PHP echo की ही तरह print भी एक language construct है। यह कोई function नहीं है।

PHP print output display करने का एक traditional तरीका है। यदि आप c language से familiar है तो print आपको ज्यादा appropriate लगेगा।

PHP print एक function की तरह behave करता है। यदि आप output को function के द्वारा या function के सन्दर्भ प्रयोग करना चाहते है तो ऐसी situation में आपको PHP print को ही use करना चाहिए।

Syntax of PHP print 

PHP print का general syntax निचे दिया जा रहा है। 
print “string $varaibleName”;
PHP print को single quotes के साथ भी use किया जा सकता है। आप चाहे तो print को parenthesis के साथ भी use कर सकते है।

print (“string $varaibleName”);

PHP echo की ही तरह print में भी HTML define की जा सकती है।

print “<tagName>text</tagName>”;

Difference Between PHP echo & print

Uses में PHP echo और print same ही लगते है लेकिन इनमें कुछ महत्वपूर्ण difference पाए जाते है। इनके बारे में निचे बताया जा रहा है।

Return Value

PHP echo कोई value return नहीं करता है। इसे आप function के context में नहीं use कर सकते। है जबकि PHP print 1 return करता है। इसे आप expressions में use कर सकते है। 

$res = print “Today is someday.”; // $res will have 1 as value

if($res==1)
{
print “Hello reader…”;
}

No Multiple Arguments

PHP echo multiple arguments को process कर सकता है। इसके लिए आप सभी arguments को comma (,) से separate करके quotes में define करते है।

echo “Hello”,”reader”,”$variableName”;  //Multiple arguments possible with echo 

लेकिन PHP print एक बार में सिर्फ एक ही argument को process करता है। PHP print में आप comma (,) से separate करके एक बार में 2 strings नहीं print कर सकते है।

//Invalid. Multiple argument not possible with print
print “Hello”,”reader”,”$variableName”;

//Valid. Only one argument is allowed with print.
print “Hello reader $variableName”;  

Speed

क्योंकि PHP echo में return value नहीं set की जाती है इसलिए echo की processing print से fast होती है।

Example of PHP print 

PHP print को use करने का सरल उदाहरण निचे दिया जा रहा है।

<?php

$name = “Hindi”;
// Printing HTML and PHP variable using print.
print “<h2>Best $name Tutorials</h2>”;

?>

ऊपर दिया गया उदाहरण निचे दिया गया output generate करता है।

PHP-print-example-in-Hindi

PHP in Hindi : echo

PHP echo

  • Introduction to PHP echo in Hindi 
  • Syntax of PHP echo in Hindi
  • Examples of PHP echo in Hindi  

Introduction to PHP echo

PHP में echo एक language construct है। कई बार echo को function के रूप में misjudge कर लिया जाता है। लेकिन यह एक function नहीं है। यह एक special tool है जिसे PHP की core functionality में hard code किया गया है। 

यदि programmer की दृष्टि से देखा जाए तो language construct भी built in functions की तरह ही काम करते है। लेकिन इनमें मुख्य difference यह होता है की PHP engine इन्हें अलग अलग तरीके से interpret करता है। 
हर programming language कुछ keywords से मिलकर बनी होती है। ये keywords उस programming language के parser या compiler के द्वारा परिचित होते है। उदाहरण के लिए if, else आदि keywords है और PHP parser यह जानता है की ये keywords किस सन्दर्भ में और किस प्रकार प्रयोग किये जाते है। इनका पूरा syntax PHP parser के पास stored रहता है। 
मान लीजिये किसी PHP file को parse किया जा रहा है और PHP parser को if keyword मिलता है तो PHP parser को पहले से ही पता है की इस keyword के बाद opening bracket आता है। लेकिन यदि script में ऐसा नहीं है तो PHP parser error show कर देता है। 
इस situation में if एक language constructor है क्योंकि PHP parser को पहले से ही पता है की ये क्या है और कैसे काम करता है। इसके लिए उसे if की definition check करने की आवश्यकता नहीं होती है। उसी प्रकार echo के बारे में भी PHP parser को पूर्ण जानकारी होती है। 

लेकिन built in functions के case में ऐसा नहीं होता है। जब भी PHP parser को कोई built in function मिलता है तो वह language definition में उसके format को match करता है। Parser check करता है की इसे सही प्रकार declare किया गया है या नहीं।

इसके बाद parser function को उन language constructs में convert करता है जिनकी जानकारी उसे है और इसके बाद ही function execute होता है। यह एक लंबी process होती है। 

इसे आप इस प्रकार समझ सकते है की जैसे आप किसी article को एक तो Hindi भाषा में पढ़े और एक जर्मन भाषा में पढ़े। जब आप Hindi भाषा में किसी article को पढ़ेंगे तो आपको बार बार dictionary देखने की और grammar rules check करने की आवश्यकता नहीं होती है।

लेकिन जब आप जर्मन भाषा में उस article को पढ़ेंगे तो आपको बार बार dictionary में हर word का मतलब देखना होगा क्योंकि आप जर्मन भाषा से परिचित नहीं है। 

इसी प्रकार PHP parser के लिए language constructs mother tongue की तरह होते है जिन्हें समझने के लिए उन्हें किसी प्रकार की processing करने की आवश्यकता नहीं होती है। लेकिन PHP parser के लिए functions किसी दूसरी भाषा की तरह होते है जिससे वह परिचित नहीं है और इसके लिए उसे बार बार language definition check करनी होती है। 
क्योंकि language constructs के लिए किसी प्रकार की processing नहीं होती है इसलिए language constructs functions से faster होते है। यही reason है की इन्हें functions से अधिक use किया जाता है।

इसके अलावा functions return value भी set करते है इसलिए उनकी processing और भी slow हो जाती है। लेकिन PHP echo function नहीं है इसलिए ये कोई value भी return नहीं करता है। इसलिए इसकी processing function से अधिक होती है।

PHP के opening और closing tags के अंदर आप कोई भी HTML tags define नहीं कर सकते है। ऐसा करने पर error generate होती है। लेकिन PHP echo द्वारा आप HTML को भी render करके display करवा सकते है। इसके लिए आप HTML tags को string के रूप में echo के अंदर quotes में define करते है।  

Syntax of PHP echo 

PHP echo का general syntax निचे दिया जा रहा है। 
echo (“string $arg1 [, string $…]”);
जैसा की आप ऊपर दिए गए उदाहरण में देख सकते है echo में आप string और argument/variable दोनों एक साथ double quotes में pass कर सकते है। Echo द्वारा एक से अधिक arguments को process किया जा सकता है।

क्योंकि echo एक function नहीं इसलिए इसे आप बिना paranthesis के भी इसे use कर सकते है।

echo “string $arg”;

यदि आप echo के अंदर define की गयी string में single quote use करना चाहते है तो आपको echo के साथ double quotes use करने की आवश्यकता होती है। आप चाहे तो echo के साथ single quotes भी use कर सकते है।

echo ‘string $arg’;

यदि आप किसी variable की value print कर रहे तो इसके लिए आपको quotes में उसे define करने की आवश्यकता नहीं होती है। आप echo के बाद सीधे ही dollar sign के साथ varaible का नाम लिख सकते है।

echo $variableName;
यदि आप PHP code में HTML tags को use करना चाहते है तो इसके लिए आप HTML को echo के साथ quotes में define कर सकते है।

echo “<tagName>text</tagName>”;

Example of PHP echo 

PHP echo को use करने का एक simple उदाहरण निचे दिया जा रहा है।

<?php

$name = “Best Hindi Tutorials”;
// Printing HTML and PHP variable using echo.
echo “<h2>I Like $name</h2>”;

?>

ऊपर दिए गए उदाहरण में echo द्वारा string के साथ साथ variable और HTML को भी display करवाया गया है। यह उदाहरण निचे दिया गया output generate करता है।

PHP-echo-example-in-Hindi
Previous: PHP Constants

PHP in Hindi : MySQLi

PHP MySQLi

  • Introduction to PHP MySQLi in Hindi
  • Advantages of PHP MySQLi in Hindi
  • Functions of PHP MySQLi in Hindi

Introduction to PHP MySQLi  

MySQL databases को handle करने के लिए PHP में नया MySQL extension add किया गया है। इस extension का नाम MySQL improved extension है। इसे shorter form में MySQLi extension भी कहा जाता है। 

MySQLi extension को PHP version 5.5.0 में MySQL extension के अलावा optionally introduce किया गया था। लेकिन PHP version 7 से इसे पूरी तरह लागू कर दिया गया है। 
MySQLi extension से पूर्व MySQL extension को use किया जाता था। MySQL extension को PHP version 5.5.0 में disable कर दिया गया था और PHP version 7 से इसे पूरी तरह remove कर दिया गया है। MySQL extension के सभी functions mysql_ prefix के साथ शुरू होते है।

Why need MySQLi?

MySQL extension को PHP v2.0 के साथ 1997 में introduce किया गया था। PHP के MySQL extension को 2006 के बाद एक बार भी update नहीं किया गया था। लेकिन MySQL में नए features add किये जा चुके थे। PHP MySQL extension के पुराने code से नए MySQL features को handle करना मुश्किल था। 

MySQL extension में बहुत अधिक security issues थे। कोई भी आसानी से SQL injection के माध्यम से किसी PHP web application को बर्बाद कर सकता था। MySQL extension में security issues की वजह से कई websites fail हो चुकी थी। 
MySQL के नए features के साथ तालमेल बिठाने के लिए और बेहतर security provide करने के लिए ही PHP द्वारा MySQL extension का ही successor MySQLi extension develop किया गया है। 
यदि आप PHP version 7 से पहले का PHP version और MySQL v4.1 से पहले का MySQL version use कर रहे है तो आप PHP के पुराने MySQL extension को use कर सकते है। 

Advantages of PHP MySQLi 

निचे MySQLi extension की कुछ ऐसी advantages दी जा रही है जो इसे पुराने MySQL extension से बेहतर बनाती है। 
  • PHP में object oriented programming features add किये जा चुके है। MySQLi extension आपको database के साथ work करने के लिए object oriented interface provide करता है। इसमें database connection से लेकर दूसरे operations को भी objects की तरह define किया जाता है। 
  • MySQLi extension prepared statements के लिए support provide करता है। Prepared statements के द्वारा data queries को safely MySQL server तक पहुँचने में मदद मिलती है। 
  • MySQLi extension multiple statements के लिए भी support provide करता है। 
  • MySQLi extension transaction के लिए भी support provide करता है। Transactions की मदद से complete robust operations perform करने में मदद मिलती है। 
  • MySQLi extension में MySQL extension से अधिक debugging capabilities provide की गयी है। 
  • MySQLi extension में enhanced server support भी provide किया गया है। 

PHP MySQLi Functions

MySQLi extension के functions का syntax पुराने MySQL extension से मिलता जुलता है। यदि आप MySQL extension से familiar है तो इसे आसानी से समझ और उपयोग कर सकते है। निचे कुछ MySQLi functions के बारे में बताया जा रहा है।

mysqli_affected_rows()

यह function हाल ही में execute की गयी select, insert, update और delete query द्वारा affected rows की सँख्या return करता है। इसका syntax निचे दिया जा रहा है। 
mysqli_affected_rows($connectionVariable);

इस function में argument के रूप में connection variable pass किया जाता है। यदि return की गयी value 0 है तो कोई भी rows affect नहीं हुई है और यदि value zero से अधिक है तो उतनी ही rows last operation से affect हुई है। यदि return value -1 है तो operation error के कारण terminate हुआ है।

mysqli_autocommit()

यह function MySQL में auto committing option को on और off करने के लिए use किया जाता है। जब auto commit mode on रहता है तो सभी transactions automatically commit हो जाते है। इस function का syntax निचे दिया जा रहा है। 
mysqli_autocommit($connectionVariable, Mode);

इस function में पहला argument connection variable pass किया जाता है और दूसरा argument वह mode pass किया जाता है जो आप apply करना चाहते है।

यदि आप autocommit option को off करना चाहते है तो mode FALSE pass करते है और यदि आप autocommit option को on करना चाहते है तो mode TRUE pass करते है।

mysqli_change_user()

यह function किसी MySQL connection के user को change करने के लिए use किया जाता है। इसका syntax निचे दिया जा रहा है। 
mysqli_change_user($connectionVariable, userName, password, databaseName);
इस function में पहला argument connection variable, दूसरा argument user name, तीसरा password और चौथा argument database का नाम pass किया जाता है। 

mysqli_character_set_name() 

यह function database connection के लिए default character set return करता है। इसका syntax निचे दिया जा रहा है।

mysqli_character_set_name($connectionVariable);

इस function में argument के रूप में connection variable pass किया जाता है।

mysqli_close()

यह function database connection को close करने के लिए use किया जाता है। इसका syntax निचे दिया जा रहा है। 
mysqli_close($connectionVariable);
इस function में argument के रूप में connection variable pass किया जाता है।

mysqli_commit()

यह function current transaction को commit करता है। इसका syntax निचे दिया जा रहा है। 
mysqli_commit($connectionVariable);

Argument के रूप में इस function में database connection variable pass किया जाता है।

mysqli_connect_errno()

यह function last connection error का error code return करता है। Error code debugging के लिए बहुत useful होता है। इस function का general syntax निचे दिया जा रहा है। 
mysqli_connect_errno();
इस function में कोई argument नहीं pass किया जाता है।

mysqli_connect_error()

यह function last connection error का description return करता है। Error description में error के विषय में पूर्ण जानकारी दी जाती है। इसका syntax निचे दिया जा रहा है। 
mysqli_connect_error();

इस function में कोई argument नहीं pass किया जाता है।

mysqli_connect()

यह function MySQL server के साथ नया database connection establish करने के लिए use किया जाता है। इसका general syntax निचे दिया जा रहा है। 
mysqli_connect(host, username, password, dbname, port, socket);

इस function में क्रमशः host name, user name, password, database name, port number और socket 6 arguments pass किये गए है।

mysqli_data_seek()

यह function पुरे result set में से किसी एक row को देखने के लिए प्रयोग किया जाता है। इसका syntax निचे दिया जा रहा है। 
mysqli_data_seek($resultSetVariable, offset);
इस function में पहला argument result set variable pass किया जाता है। यह वह variable होता है जिसमे आप query execution का result store करते है। दूसरा argument एक integer number होता है।

Rows की indexing 0 से शुरू होती है। मान लीजिये आप 5th row को देखना चाहते है तो तो इसके लिए आपको second argument में 4 pass करना होगा।

mysqli_debug()

यह function debugging operations perform करने के लिए प्रयोग किया जाता है। इसका syntax निचे दिया जा रहा है। 
mysqli_debug(message);

इस function को use करने से पूर्व debugging support enable करने के लिए MySQL client library को compile करने की आवश्यकता होती है।

mysqli_dump_debug_info()

यह function debugging information को log में dump कर देता है। इसका syntax निचे दिया जा रहा है। 
mysqli_dump_debug_info($connectionVariable)
इस function में connection variable argument के रूप में pass किया जाता है।

mysqli_errno()

यह function last call किये गए function से generate होने वाली last error का code return करता है। इसका syntax निचे दिया जा रहा है। 
mysqli_errno($connectionVariable);

इस function में connection variable argument के रूप में pass किया जाता है।

mysqli_error_list()

यह function recent function call से generate होने वाली सभी errors की list return करता है। इसका syntax निचे दिया जा रहा है।

mysqli_error_list($connectionVariable);

इस function में connection variable argument के रूप में pass किया जाता है।

mysqli_error()

यह function recent function call से generate होने वाली आखिरी error का description return करता है। इसका syntax निचे दिया जा रहा है।

mysqli_error($connectionVariable);

इस function में connection variable argument के रूप में pass किया जाता है।

mysqli_fetch_all()

यह function result set की सभी rows को associative या numeric array के रूप में fetch करके return करता है। इसका syntax निचे दिया जा रहा है। 
mysqli_fetch_all($resultVariable,resultType);

इस function में पहला argument वह variable होता है जो query result set के pointer को return करता है। दूसरे argument के रूप में आप क्रमशः MYSQLI_ASSOC, MYSQLI_NUM और MYSQLI_BOTH values pass कर सकते है।

mysqli_free_result()

यह function result set द्वारा occupied memory को free करता है। इसका syntax निचे दिया जा रहा है। 
mysqli_free_result($resultVariable);

इस function में query के result को hold करने वाला result variable argument के रूप में pass किया जाता है।

mysqli_get_client_info()

यह function MySQL client version के बारे में information return करता है। इसका syntax निचे दिया जा रहा है। 
mysqli_get_client_info();

इस function में आप connection variable pass कर सकते है। यह optional होता है।

mysqli_get_host_info()

यह function mysql server का hostname और connection type return करता है। इसका syntax निचे दिया जा रहा है।

mysqli_get_host_info($connectionVariable);

इस function में connection variable argument के रूप में pass किया जाता है।

mysqli_get_server_info()

यह function MySQL server version की जानकारी return करता है। इसका syntax निचे दिया जा रहा है। 
mysqli_get_server_info($connectionVariable);

इस function में connection variable argument के रूप में pass किया जाता है।

mysqli_info()

यह function most recently executed query के बारे में information return करता है। इसका syntax निचे दिया जा रहा है। 
mysqli_info($connectionVariable);
Argument के रूप में इस function में database connection variable pass किया जाता है।

mysqli_init()

यह function mysqli को initialize करता है और एक object return करता है जिसे mysqli_real_connect() function के साथ use किया जाता है। इसका syntax निचे दिया जा रहा है। 
mysqli_init();
इस function में कोई argument नहीं pass किया जाता है।

mysqli_ping()

यह function server connection को ping करता है और यदि connection down है तो यह function reconnect करने का प्रयास करता है। इसका syntax निचे दिया जा रहा है। 
mysqli_pint($connectionVariable);

इस function में connection variable argument के रूप में pass किया जाता है।

mysqli_query()

यह function एक MySQL server पर किसी query को execute करता है। इसका general syntax निचे दिया जा रहा है। 
mysqli_query($connectionVariable, query, resultMode);
इस function में 3 arguments pass किये जाते है। पहला argument database connection variable होता है। दूसरे argument के रूप में query pass की जाती है।

Query को string के रूप में double quotes में pass किया जाता है। तीसरा argument optional होता है। तीसरे argument के रूप में आप MYSQLI_USE_RESULT और MYSQLI_STORE_RESULT possible values pass कर सकते है।

mysqli_rollback()

यह function specify किये गए database connection के current transaction को rollback करता है। इसका syntax निचे दिया जा रहा है। 
mysql_rollback($connectionVariable);
इस function में connection variable argument के रूप में pass किया जाता है।

mysqli_select_db()

यह function database को change करने के लिए use किया जाता है। इसका syntax निचे दिया जा रहा है। 
mysqli_select_db($connectionVariable, databaseName);

इस function में connection variable और database का नाम argument के रूप में pass किया जाता है। इस function को तब ही use किया जाता है जब आप database connection के दौरान database का नाम नहीं pass करते है।

Example of PHP MySQLi

PHP में MySQLi extension के use को निचे उदाहरण के माध्यम से समझाया जा रहा है।

<?php

// Connecting to MySQL database
$con = mysqli_connect(“localhost”,”root”,””,”test”) or die(“Could not connect”);

// Executing query
$result = mysqli_query($con,”Select * from Employee”);

// Printing query result
if($result->num_rows>0)
{

while($row=$result->fetch_assoc())
{
echo “Name “.$row[“Name”].”<br>”.”Salary “.$row[“salary”].”<br>”.”<br>”;
}

}

?>

ऊपर दिए गए उदाहरण में mysqli_query() function द्वारा select query को execute करवाया गया है। यह query test database से Employee table के सभी columns को result के रूप में return करती है। यदि आप MySQL में database और tables create करने के बारे में जानना चाहते है तो इसके लिए आप MySQL से सम्बंधित tutorials पढ़ सकते है।

इस उदाहरण में सबसे पहले MySQL database test से connection establish किया गया है। इसके लिए mysqli_connect() function use किया गया है। इसके बाद mysqli_query() function द्वारा उस database की Employee table से सम्पूर्ण data को access करने के लिए SELECT query को execute किया गया है।

Query को execute करने के बाद सबसे पहले if statement द्वारा check किया गया है की query द्वारा कोई results return भी किये गए है या नहीं। इसके लिये num_rows property को use किया जाता है।

जैसा की आपको पता mysqli_query() function result के रूप में object return करता है। यह property इसी object के द्वारा access की जाती है जिसे ऊपर दिए गए उदाहरण में $result variable में store किया गया है।

इसके बाद एक while loop define किया गया है। While loop में condition के लिए fetch_assoc() function को use किया गया है जो mysqli_query() function द्वारा return किये गए result object के साथ available है। यह function result को associative array के रूप में return करता है।

इसके अलावा $row array को भी use किया गया है। जिस प्रकार forms elements की values को आप $_POST या $_GET arrays द्वारा access करते है। उसी प्रकार table के columns से value access करने के लिए PHP आपको $row array provide करती है। इस array को आप column के नाम के साथ use करते है। इसका syntax निचे दिया जा रहा है।

$row[“column-Name”]; 

While loop की condition इस प्रकार define की गयी है की जब तक $row array और fetch_assoc() function द्वारा return किया गया array समान होता है तो loop execute होता रहता है।

Loop के अंदर $row array द्वारा employee table के दोनों columns की value print की गयी है। यह उदाहरण निचे दिया गया output generate करता है।

PHP-mysqli-database-example-in-Hindi